चुनाव में विरोध किया, फिर भी बचाई 150 लोगों की नौकरी

कौन बनेगा करोड़पति के गुरुवार एपिसोड में अमिताभ बच्चन को खास सरप्राइज मिला. दरअसल 11 अक्टूबर को उनका जन्मदिन था. बिग बी को समर्पित करते एक वीडियो तैयार किया गया था. जिसे एपिसोड में दिखाया गया. इसमें इलाहाबाद से जुड़े अमिताभ के प्रसंग भी थे. अमिताभ इलाहाबाद में पैदा हुए और उनके जीवन का एक हिस्सा इलाहाबाद में गुजरा. वीडियो में इलाहाबाद और पुरानी यादों को देखकर अमिताभ भावुक हो गए.

वीडियो में कृपा शंकर श्रीवास्तव नाम के एक शख्स ने महानायक के बारे में दिलचस्प किस्सा सुनाया. महानायक में कितना बड़प्पन है कि उन्होंने अपना विरोध करने वालों का भी नुकसान नहीं होने दिया. कृपाशंकर ने बताया, ”लोकसभा चुनाव में आपका विरोध करने के बाद AG ऑफिस से 150 कर्मचारियों को आंदोलन के चलते निकाला गया था. आपने उन सारे कर्मचारियों को वापस नौकरी दिलाई. इसलिए मैं एक बार फिर से आपका आभारी रहूंगा. वे कहते हैं, हम तो 75-76 साल के हो गए हैं. चलने-फिरने में असमर्थ हैं. लेकिन हमारे हमउम्र होकर भी लगता है आप जवानी की स्टेज में हैं.”

बता दें कि अमिताभ ने 1984 में इलाहाबाद से कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ा था. इस चुनाव में उन्होंने इलाहाबाद के दिग्गज नेता हेमवती नंदन बहुगुणा को पराजित कर दिया था. कृपाशंकर इसी चुनाव के दौरान का किस्सा साझा कर रहे थे.

जब मां की आवाज सुन भावुक हुए अमिताभ

इस दौरान ये भी बताया गया कि बचपन में कद लंबा होने की वजह से अमिताभ को फील्ड मार्शल कहा जाता था. 4 साल की उम्र में भी वह इतने बड़े दिखते थे कि उनका पूरा टिकट लेना पड़ता था. जन्मदिन के एपिसोड में अचानक स्टूडियो में एक आवाज गूंजी. ये आवाज किसी महिला की थी, जो कविता गा रही है.

“आ झरोखे से जरा सा…

चांदनी पिछले पहर की…

पास में जो सो गई है…”

ये कविता सुनकर केबीसी के मंच पर एक तरफ सन्नाटा था, वहीं दूसरी तरफ अमिताभ बच्चन बेहद भावुक हो जाते हैं. सब अमिताभ की ओर देखकर बस पूछना चाहते हैं आखिर किसकी आवाज ने अमिताभ बच्चन की आंखों में आंसू ला दिए. केबीसी के मंच पर पसरा मौन टूटता है अमिताभ की अवाज से, वो बस इतना कहते हैं, “ये मां की आवाज थी.”