स्थापना के लिए 25 जगहों पर 5 हजार मूर्तियां सज कर तैयार, 450 पंडालों में विराजेंगी देवी

इंदौर. देवी स्वरूप मासूमों के साथ बुरा काम करने में बाहर के दरिंदे ही नहीं अपने भी शामिल हैं। जिन पर शिक्षित करने की जिम्मेदारी है वे भी उन्हें अपने वहशीपन का शिकार बना रहे हैं।
अब बच्ची मां से दूर नहीं सोती : राजबाड़ा स्थित सुतार गली में डेढ़ साल की बच्ची के साथ मुंह बोले चाचा ने ही दुष्कर्म किया। पिता कहते हैं घटना से बच्ची इतनी डरी है कि मां से कभी दूर नहीं सोती। प्राइवेट पार्ट में दर्द होता है।
स्कूल जाने से डरती है : मदरसे में 10 साल से मौलवी ने की हरकत। अब पढ़ने जाने से ही डरती है। सिमरोल में 8 साल की बच्ची गैंगरेप के बाद अब भी सदमे में है।
सुदामा नगर में 25 हजार वर्ग फीट मैदान में पहली बार ईको फ्रेंडली प्रतिमा विराजित होगी
संस्था उदय द्वारा सुदामा नगर सेक्टर डी स्थित मैदान में पहली बार ईको फ्रेंडली प्रतिमा स्थापित की जाएगी। सौगात मिश्रा ने बताया प्रतिमा का विसर्जन भी पंडाल परिसर में ही होगा। प्रतिमा की मिट्टी से घर-घर तुलसी पौधे का वितरण भी होगा।
कैट रोड स्थित हरिधाम में अभिजीत मुहूर्त में विद्वान आचार्यों के सान्निध्य में घट स्थापना ज्वारे बोने के साथ होगी। बालकृष्ण अग्रवाल ने बताया प्रतिदिन दुर्गा सप्तशती का पाठ होगा।
छत्रीबाग स्थित माता वैष्णव देवी मंदिर में महंत रामबालक दास रामायणी और महंत भोलेबाबा के सान्निध्य में प्रतिदिन हवन-पूजन, दुर्गा सप्तशती का पाठ होगा। विजय देवड़ा ने बताया 19 को सुबह कन्या पूजन होगा।
वैभव नगर स्थित दुर्गा माता मंदिर में घट स्थापना कर नवरात्रि महोत्सव मनाया जाएगा। महेश राजोरिया ने बताया प्रतिदिन माताजी की मूर्ति का शृंगार किया जाएगा।
रवींद्र नगर स्थित गायत्री मंदिर में सद्‌भावना भाईचारा के साथ माता की चौकी स्थापना होगी। अर्चना जायसवाल ने बताया महिला मंडल द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी।
खजराना स्थित मां उमिया माता मंदिर में नौ दिनी सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति होगी, जिसमें बच्चों द्वारा गरबों की प्रस्तुति दी जाएगी।
मां रेवा श्रद्धा संघ द्वारा 14 अक्टूबर को चुनरी यात्रा निकाली जाएगी। यात्रा में पांच हजार से ज्यादा मातृ शक्तियां 200 मीटर लंबी चुनरी लेकर निकलेंगी।
एलएनसीटी टाउनशिप : 51 जोड़ों द्वारा गरबा किया जाएगा। संयोजक अवधेश भदौरिया के मुताबिक हर दिन का ड्रेस कोड रहेगा। अंतिम दिन महाप्रसादी वितरित होगी।
बिचौली मर्दाना स्थित वैष्णवधाम मंदिर में विराजित मां दुर्गा, मां काली, मां सरस्वती और शिव परिवार का शृंगार होगा। सुबह 8 बजे पूजा-अर्चना और यज्ञ-हवन होगा। दोपहर में भजन मंडलियों द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 6 बजे मां के दिव्य स्वरूपों को नाटक के माध्यम से प्रस्तुत किया जाएगा। महिला मंडल की विनोद अहलूवालिया ने बताया सभी भक्त जल ऊर्जा पर्यावरण संरक्षण, शिक्षित बालिका, शिक्षित समाज और विश्व शांति का संकल्प लेंगे।