ब्रिटेन में चीन की महिला रिपोर्टर ने युवक को मारा चांटा

चीन की एक महिला रिपोर्टर ब्रिटेन के बर्मिंघम में एक कार्यक्रम का कवरेज करने गई थीं। वहां कंजर्वेटिव पार्टी के एक कार्यकर्ता को उस रिपोर्टर ने चांटा मार दिया। घटना का वीडियो चीन में वायरल हो गया। चीनी यूजरों ने न केवल उनकी प्रशंसा की, बल्कि वे उसे हीरो, सुपरवुमन जैसे नाम दे रहे हैं।

चीन की महिला रिपोर्टर का नाम कॉन्ग लिनलिन (48) है, वे सरकारी टीवी चैनल सीसीटीवी नेटवर्क के लिए ब्रिटेन में काम करती हैं। वे बर्मिंघम में हॉन्ग कॉन्ग की राजनीतिक स्वतंत्रता से संबंधित कार्यक्रम का कवरेज करने पहुंची थीं। वहां राजनीतिक कार्यकर्ता बेनेडिक्ट रोजर्स के साथ उनकी बहस हो गई। कुछ ही मिनट बाद लिनलिन ने रोजर्स को चांटा मार दिया।

पुलिस ने लिनलिन को हिरासत में लेकर 24 घंटे बाद रिहा कर दिया। परन्तु चीन में उनकी लोकप्रियता कई गुना बढ़ गई। वहां की प्रमुख सोशल मीडिया वेबसाइट एवं ऐप वीबो पर उनकी वीडियो क्लिप वायरल हो गई। लाखों चीनीयों ने उन्हें निष्ठावान राष्ट्रवादी, प्रेरणा, हीरो, सुपरवुमन, ब्रेव लेडी जैसे नाम दिए हैं।

अमेरिका की पाबंदी के बावजूद भारत जारी रखेगा ईरान से तेल आयात
लाखों चीनीयों ने अपनी पोस्ट के साथ कहा कि हॉन्ग कॉन्ग पर चीन का ही अधिकार है। कई लोगों ने यह भी कहा कि दूसरे देश में चीन की संप्रभुता की बात करना गलत है। वहां जरूर चीन के बारे में कुछ गलत कहा गया होगा और वह लिनलिन को अच्छा नहीं लगा होगा। संभवतः इसीलिए उन्होंने उस युवक को चांटा मारा।

चीनी रिपोर्टर लिनलिन को हिरासत में लेने वाले पुलिस अधिकारी ने बताया कि वे लंदन के किंग क्रॉस क्षेत्र में रहकर चीनी चैनल के लिए काम करती हैं। जब रोजर्स हॉन्ग कॉन्ग की स्वतंत्रता के विषय पर बात कर रहे थे, तब वे क्रोधित हो गईं।

-कौन हैं बेनेडिक्ट रोजर्स
बेनेडिक्ट रोजर्स हॉन्ग कॉन्ग की स्वतंत्रता की वकालत करने वाले समूह से जुड़े हैं। यह समूह ब्रिटेन में हॉन्ग कॉन्ग के नागरिकों की आवाज उठाता रहा है। उसके सबसे सक्रिय कार्यकर्ता बेनेडिक्ट हैं, वे कंजर्वेटिव पार्टी से भी जुड़े हुए हैं।

-कभी ब्रिटेन का था हॉन्ग कॉन्ग
हॉन्ग कॉन्ग पर पहले ब्रिटेन का नियंत्रण था। 1997 में उसका प्रशासनिक अधिकार चीन सरकार को सौंपा गया था। उस समझौते में उल्लेख है कि हॉन्ग कॉन्ग को रक्षा एवं विदेश मामलों में छोड़कर अगले 50 वर्षों तक उच्च स्तर पर स्वायत्त अधिकार प्रदान किए जाएंगे।