TV पर जितने चैनल उतना ही चार्ज, जानिए क्या है TRAI का नया नियम, जेब पर क्या पड़ेगा असर

दूरसंचार नियामक ट्राई 29 दिसंबर से केवल और डीटीएच ऑपरेटर के लिए नया टैरिफ नियम लागू कर रहा है। इसके तहत टीवी दर्शकों को 100 फ्री टू एयर चैनल मिलेंगे, जिनके लिए उनको 130 का भुगतान (जीएसटी अलग से) करना होगा। इसके अतिरिक्त दूसरे मनपसंद चैनल देखने के लिए ब्रॉडकास्टर्स द्वारा तय की गई बुके राशि का भुगतान करना होगा। ऐसे में नए नियम लागू होने से पहले टीवी चैनल देखने वालों दर्शकों के बीच उहापोह की स्थिति है कि क्या उनका चैनल देखने का खर्च बढ़ने या घटने वाला है। अगर आप भी इन सवालों का जवाब ढूंढ रहें हैं तो आइए जानते हैं कि ट्राई के नए नियम से आप पर क्या असर होने वाला है।

क्या है नया नियम?

ट्राई के केवल और डीटीएच ऑपरेटर्स के लिए लागू हो रहे नए नियम में कहा गया है कि वह उपभोक्ताओं पर टीवी चैनल थोप नहीं सकता है, बल्कि उपभोक्ता के पास टीवी चैनलों को चुनने की आजादी होगी, जिन्हें वे देखना चाहते हैं। उपभोक्ता अपनी अपने मनपसंद के ही चैनल के लिए भुगतान करेंगे। इसके लिए सभी ब्रॉडकास्टर्स को अपने चैनल को बुके के रूप में उपलब्ध करना होगा, जिन्हें उपभोक्ता अपनी पसंद के अनुसार चुन सकता है। टीवी स्क्रीन पर हर चैनल की अधिकतम मूल्य लिखी होगी। कोई भी केवल या डीटीएच ऑपरेटर ब्रॉडकास्टर की ओर से तय कीमत से अधिक नहीं ले सकता है

चैनल देखने का खर्च बढ़ जाएगा?

ट्राई के नए नियम के तहत ग्राहकों को हर महीने 100 चैनलों के लिए अधिकतम 130 रुपये देना होगा। जीएसटी अलग से होगा। ऐसे में अगर आप 100 से अधिक चैनल देखते हैं तो अगले 25 चैनलों के लिए 20 रुपये अतिरिक्त देने होंगे। इसके अलावा आप जो पे चैनल्स चुनेंगे उनकी तय कीमतें जुड़ जाएंगी। यानी अगर आप बहुत सारे पे चैनल देखने के लिए सब्सक्राइब करते हैं तो हो सकता है कि आपके अधिक भुगतान करने पड़े। ट्राई ने बार्क के रिपोर्ट के हवाले से कहा है टीवी दर्शकों के पैटर्न के अनुसार 80 प्रतिशत उपभोक्ता या तो 40 या उससे कम चैनलों को देखते या खंगालते हैं। यदि कोई उपभोक्ता सावधानीपूर्वक अपने परिवार की पूरी आवश्यकता के लिए चैनल चुनता है तो उसे हर महीने मौजूदा कीमत से कम भुगतान करना होगा।

नए नियम में कैसे चुनेंगे चैनल?

ट्राई ने सभी केबल और डीटीएच ऑपरेटर्स से कहा है कि वह टीवी दर्शकों को अपने वेबसाइट के जरिए चैनल चुनने और ऑनलाइन पेमेंट की सुविधा उपलब्ध कराएं। वेबसाइट पर चैनलों की सूची कीमत के साथ उपलब्ध होगी। इसके अलावा उपभोक्ता कॉल सेंटर के जरिए भी चैनल चुन पाएंगे।

कीमत में अंतर नहीं कर पाएंगे ऑपरेटर्स

नए नियम लागू होने के बाद कोई भी केबल या डीटीएच ऑपरेटर्स चैनलों के लिए अलग-अलग चार्ज नहीं ले पाएंगे। सभी प्लेटफॉर्म पर चैनलों की सामान कीमत होगी। अगर दो अलग- अलग सर्विस प्रोवाइडर्स के उपभोक्ता एक जैसे चैनल देख रहे हैं तो उनका भुगतान भी एक जैसा ही होगा।

आपके सवाल और ट्राई के जवाब

सवाल – नया प्लान नहीं लिया तो 29 दिसंबर से टीवी नहीं देख पाएंगे?

जवाब – नहीं, केबल या डीटीएच अचानक से ठप नहीं होगा।

सवाल – नए नियम लाने की क्या जरूरत है?

जवाब – ऑपरेटर्स दर्शकों पर जबरन सैकड़ों चैनल न थोपे।

सवाल – क्या टीवी देखना महंगा होने वाला है?

जवाब – चैनल देखने के आधार पर खर्च कम होने वाला है।

सवाल – सेट टॉप बॉक्स खराब हुआ तो खर्च कौन करेगा?

जवाब – 3 साल तक खराब होने पर फ्री में मेंटेनेंस होगा।

सवाल – क्या गांवों में टीवी देखना महंगा हो जाएगा?

जवाब – नहीं, पे चैनल देखने को मजबूर नहीं कर सकते हैं।

सवाल – अगर एडवांस पैकेज लिया है तो क्या करना होगा?

जवाब – एडवांस पैकेज ज्यों के त्यों चलते रहेंगे।