1 साल की मासूम दादी के साथ जेल …

पानीपत (सचिन सिंह). यह व्यथा एक ऐसी साल भर की बच्ची की है, जिसे मजबूरन अपना बचपन जेल में बिताना पड़ेगा। उसका कसूर सिर्फ इतना है कि जब वह 6 माह की थी, तब उसकी मां इस दुनिया से विदा हो गई। दरअसल मां की मौत दहेज हत्या के कारण हुई थी। उसकी मां की दहेज हत्या के आरोप में बाप, दादा और दादी फिलहाल जमानत नहीं मिलने से करीब छह माह से जेल में बंद हैं। कोर्ट ने इन्हें अभी सजा नहीं सुनाई है।

इस दौरान बच्ची घर में अकेली रह गई, कोई पालन-पोषण करने वाला नहीं बचा था। इसलिए 6 माह तक उसे अनाथालय में रहना पड़ा। अब दादी की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने बच्ची को करनाल जेल में दादी के साथ जेल में रहने का आदेश दिया है। बुधवार को बाल कल्याण समिति और पुलिस बच्ची को लेकर करनाल जाएगी।

मां की मौत से अकेली रह गई थी बच्ची :
सोनीपत के मुरथल की एक महिला की शादी दिसंबर 2015 को छाजू गढ़ी के एक युवक के साथ हुई थी। शादी के बाद महिला ने एक बेटी को जन्म दिया। 8 मई 2018 को उसकी मां की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई। नाना ने समालखा थाने में केस दर्ज कराया कि दहेज की मांग को लेकर पति, सास व ससुर ने जबरदस्ती जहर खिला दिया।

इससे उसकी बेटी की जान चली गई। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया, बाद में कोर्ट ने इन तीनों को जेल भेज दिया। नाना ने भी इस दौरान इस छोटी बच्ची से मुंह फेर लिया। दादी की गिरफ्तारी के बाद घर में सिर्फ अकेली पोती बची थी, जिसको 25 जून 2018 को बाल कल्याण समिति के हवाले कर दिया।

केयर टेकर को ही मां समझती है :
समिति की सदस्य किरण मलिक व सरोज आट्टा ने बताया कि जब यह बच्ची उनके पास आई, तब वह करीब 6 माह की थी। 9 जुलाई को केयर के लिए उसको कैथल शिशु गृह भेजा गया। वहां पर केयर टेकर ने उसको पाला। अब ये उसी को अपनी मां समझती है। उसके साथ ही खेलती है

केयर टेकर सोमवार को बच्ची को लेकर समिति के लघु सचिवालय में स्थित चौथे मंजिल पर कार्यालय में पहुंची। यहां भी बच्ची उसी के पास खेलती रही। बाद में केयर टेकर बच्ची को समिति के हवाले करके वापस चली गई। यहां पर बच्ची को शेल्टर होम में रखा गया है।

बाल कल्याण समिति कल बच्ची को दादी के हवाले करेगी : समिति सदस्य किरण मलिक ने बताया कि दहेज हत्या के केस में गिरफ्तार होने के बाद से बच्ची की दादी करनाल जेल में बंद है। उसने हाईकोर्ट में याचिका दायर करके बच्ची को उसके हवाले करने की गुहार लगाई थी। हाईकोर्ट ने 10 दिसंबर को बच्ची को दादी के हवाले करने के आदेश दिए थे। आदेश की कॉपी पानीपत एसपी को भी भेजी गई है। कागजात पूरे होते ही बुधवार को पुलिस के साथ बच्ची को करनाल जेल में दादी के हवाले कर दिया जाएगा। दो दिन बच्ची पानीपत के ओपन शेल्टर होम में रहेगी।