मेलबर्न में क्या टीम इंडिया दोहरा पाएगी 37 साल पुराना करिश्मा

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट क्रिकेट का इतिहास बहुत रोमांचक रहा है। ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर भी दोनों टीमों के बीच कुछ यादगार टेस्ट मैच खेले गए हैं। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच जारी चार मैचों की सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच इसी मैदान पर 26 दिसंबर से खेला जाना है। सीरीज फिलहाल 1-1 की बराबरी पर है। भारत ने एडिलेड टेस्ट जीता था, जबकि पर्थ टेस्ट में उन्हें शर्मनाक हार झेलनी पड़ी।

अब देखना ये होगा कि क्या मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर टीम इंडिया 37 साल पुराना करिश्मा दोबारा दिखा पाती है या नहीं। इस मैदान पर भारत ने आखिरी बार जीत 1981 में हासिल की थी। भारत का इस मैदान पर 2014 में खेला गया पिछला मैच ड्रॉ रहा था और इसमें टीम इंडिया ने बड़ी मुश्किल से हार टाली थी, ये वही टेस्ट है जिसके बाद महेंद्र सिंह धौनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया था।

मेलबर्न की पिच को लेकर मार्कस हैरिस ने किया ये खुलासा
मुझे ऐसा लगा था कि मेरी उंगली फट जाएगीः एरन फिंच
मेलबर्न पर भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 1948 से अब तक कुल 12 मैच खेले गए हैं, जिनमें से ऑस्ट्रेलिया आठ जीता है, भारत ने दो मैच जीते हैं जबकि दो मैच ड्रॉ रहे हैं। भारत ने अपनी आजादी के बाद जनवरी 1948 के बाद इस मैदान पर जो मैच खेला उसे ऑस्ट्रेलिया ने 233 रन से जीता। इसके बाद फरवरी 1948 में खेला गया मैच भी ऑस्ट्रेलिया ने पारी और 177 रन से जीता।

बुखार से जूझते हुए कपिल देव ने ऑस्ट्रेलियाई टीम की बैंड बजाई थी

भारत ने इस सीरीज के 19 साल बाद 1967 में मेलबर्न में मैच खेला और उसे पारी और चार रन से गंवाया। भारत को मेलबर्न में पहली जीत दिसंबर 1977 में हासिल हुई। लेफ्ट आर्म स्पिनर बिशन सिंह बेदी की अगुवाई में भारत ने इस मैच को 222 रन से जीता। इसके बाद फरवरी 1981 में सुनील गावस्कर की अगुवाई में भारत ने 59 रन से जीत हासिल की। ऑस्ट्रेलिया के सामने मात्र 143 रन का लक्ष्य था और कपिल देव की घातक गेंदबाजी के सामने आस्ट्रेलियाई टीम 83 रन पर लुढ़क गई। कपिल ने बुखार होने के बावजूद शानदार गेंदबाजी की और 16.4 ओवर में 28 रन देकर पांच विकेट झटके।

ind vs aus 3rd Test: बॉक्सिंग डे टेस्ट के लिए ऑस्ट्रेलियाई को-कप्तान होगा ये बच्चा
INDvAUS: तीसरे टेस्ट से पहले विराट कोहली ने बदला अपना लुक, देखें फोटो
इस जीत के बाद भारत फिर मेलबर्न में कोई मैच नहीं जीत पाया। दिसंबर 1985 में खेला गया मुकाबला ड्रॉ रहा जबकि दिसंबर 1991 में ऑस्ट्रेलिया आठ विकेट से, दिसंबर 1999 में 180 रन से, दिसंबर 2003 में नौ विकेट से, दिसंबर 2007 में 337 रन से और दिसंबर 2011 में 122 रन से जीता।

धौनी की कप्तानी का आखिरी टेस्ट मैच था ये

2014 में महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी मेें खेले गए पिछले मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने 530 रन बनाये जबकि भारत ने विराट केाहली के 169 और अजिंक्या रहाणे के 147 रन की बदौलत 465 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी नौ विकेट पर 318 रन पर घोषित की और भारत को जीत के लिये 384 रन का लक्ष्य दिया। भारत ने विराट के 54, रहाणे के 48, चेतेश्वर पुजारा के 21 और धौनी के नॉटआउट 24 रन से मैच ड्रॉ करा लिया। अब भारत को इसी मैदान पर ऑस्ट्रेलिया से लोहा लेना है जिसने पर्थ टेस्ट जीतकर अपना मनोबल वापिस हासिल कर लिया है।