पर्ची पर निशान नहीं दिखने की शिकायत, EVM में खराबी पर देर से शुरू हुआ मतदान

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल समेत कई स्थानों पर ईवीएम में खराबी की वजह से मतदान देर से शुरु होने की खबर है। प्रदेश के सतना जिले से अब तक ईवीएम मशीनों के खराब होने की सबसे अधिक सूचनाएं मिल रही हैं। वहीं भिंड जिले में एक मतदान केंद्र की ईवीएम मशीन खराब होने से विधायक नरेंद्र सिंह कुशवाह को बिना मतदान किए लौटना पड़ा। भोपाल के साकेत नगर स्थित सागर पब्लिक स्कूल में बनाए गए मतदान केंद्र में मतदान करीब 22 मिनट देर से शुरु हुआ। यहां सुबह से ही लोगों की कतारें लगी हुईं थीं। ऐसे में कई बुजुर्ग महिलाओं को परेशान होना भोपला के ही लालघाटी स्थित भोपाल गर्ल्स स्कूल में बनाए गए मतदान केंद्र में भी ईवीएम में खराबी के कारण मतदान करीब एक घंटे बाद तक भी नहीं शुरु हो सका।श्योपुर जिले के सोईंगकला गांव में भी बने मतदान केंद्र में ईवीएम मशीन खराब होने की खबरें हैं। बैतूल जिले के भैंसदेही विधान सभा क्षेत्र के रातामाटी मतदान केंद्र क्रमांक 118 पर वोटिंग मशीन खराब हो जाने से खबर लिखे जाने तक मतदान शुरू नहीं हो सका। बताया गया है कि वीवीपैट पर्ची पर प्रत्याशी का निशान नहीं दिख रहा था, जिसके चलते मतदान दल नए मशीन के आने का इंतजार कर रहा था। मतदान केंद्र में अंधेरा होने से भी समस्या का सामना करना पड़ा। यहां के मतदान दल ने मशीन खराब होने की पुष्टि की।
सतना जिले के नागौद नगर के शासकीय कन्या प्राथमिक पाठशाला मतदान क्रमांक 1०4 की ईवीएम मशीन कई वोट डाले जाने के बाद खराब हो गई। यहां भी लंबी कतार के चलते मतदाता परेशान हुए।

मिजोरम में सुबह 9 बजे तक 15% वोटिंग, मध्य प्रदेश में कुछ जगह EVM खराब

जिले के ही मैहर के दूबेही गांव में ईवीएम खराब होने से करीब एक घंटे बाद तक मतदान शुरु नहीं हो सका। वहीं रामनगर के पिंक बूथ क्रमांक 193 की ईवीएम मशीन भी खराब होने की सूचना है।
जिला मुख्यालय स्थित केंद्रीय विद्यालय क्रमांक दो में बने मतदान केंद्र में भी मशीन खराब हो गई। यहां भारी भीड़ के चलते मतदाताओं के हल्ला मचाना शुरु करने की भी सूचना है। आईटीआई के एक पोलिंग बूथ की ईवीएम मशीन भी बिगड़ने की जानकारी मिल रही है। नजीराबाद के भी एक मतदान केंद्र में ईवीएम मशीन में शिकायत होने से मतदाताओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। भिंड में दो पोलिंग बूथ पर ईवीएम खराब होेने से विधायक नरेंद्र सिंह कुशवाह को भी बिना वोट डाले लौटना पड़ा।