कुरुक्षेत्र: 3 दिसंबर से कुंभ और 7 दिसंबर से शुरू होगा गीता महोत्सव

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में इस साल तीन दिसंबर से कुरुक्षेत्र कुंभ शुरू हो रहा है। वहीं सात दिसबर से गीता महोत्सव शुरू होगा और इसी दिन कुंभ मिलन समाप्त होगा। रविवार को दिल्ली के लाल किला में इस बारे में जानकारी देते हुए राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि कुरुक्षेत्र कुंभ का समापन और गीता महोत्सव का शुभारंभ का साथ आना का योग एक ऐतिहासिक अवसर है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि गीता महोत्सव और कुरुक्षेत्र कुंभ का योग एक ऐतिहासिक अवसर है। अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव का शुभारंभ 7 दिसंबर को होगा और उसी दिन 3 दिसंबर से प्रारंभ हो रहे कुरुक्षेत्र कुंभ का समापन होगा। गीता महोत्सव और महाकुंभ के मिलन के इस संयोग को मुख्यमंत्री ने अद्भुत अवसर बताया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सदियों बाद यह पहला अवसर होगा, जब कुरुक्षेत्र में कुंभ का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत में एक समय में द्वादश कुंभ यानी 12 स्थानों पर कुंभ लगाए जाने की परंपरा थी, लेकिन समय के साथ यह परंपरा लुप्त हो गई। अब एक बार फिर से कुंभों के पुनर्जागरण का प्रयास हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने द्वादश कुंभों की सुप्त परंपरा के पुनर्जागरण का अभियान चलाने के लिए अखिल भारतीय सर्वमंगला कुंभ समिति के कार्यकर्ताओं को शुभकामनाएं दीं। इस मौके पर समिति के महासचिव श्याम किशोर ने द्वादश कुंभों की पृष्ठभूमि और ऐतिहासिकता पर अपने विचार रखे। इस दौरान गीता महोत्सव की आयोजन समिति के प्रमुख स्वामी ज्ञानानंद जी भी मौजूद रहे।

इस बीच, धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में आगामी 3 दिसंबर से 7 दिसंबर तक आयोजित होने वाले कुंभ की तैयारियां जोरों पर हैं। 3 दिसंबर को कुंभ पर्व का उद्घाटन माननीय राज्यपाल करेंगे, वहीं मुख्यमंत्री खट्टर 7 दिसंबर को समापन समारोह में शिरकत करेंगे। उद्घाटन के मौके पर राज्यपाल स्मारिका ‘कुरुक्षेत्र कुंभ 2018’ का लोकार्पण भी करेंगे।

कुंभ के दौरान होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों में कई केंद्रीय मंत्रियों के शामिल होने की भी संभावना है। कुंभ के आयोजन में सक्रिय भूमिका निभा रहे राष्ट्रकवि दिनकर न्यास के प्रमुख नीरज कुमार ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे कुंभ के दौरान आयोजित होने वाले शास्त्र मंथन कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा कि आयोजन में कई अन्य केंद्रीय मंत्रियों के भी शामिल होने की उम्मीद है।

इससे पहले सिमरिया धाम के पूज्य परमहंस स्वामी चिदात्मन जी महाराज की प्रेरणा और उत्साहजनक लोक-भागीदारी से बिहार के सिमरिया में वर्ष 2017 में महाकुंभ का आयोजन संपन्न हुआ। सिमरिया महाकुंभ में देश भर से पधारे सवा करोड़ से ज्यादा श्रद्धालुओं ने गंगा में पवित्र स्नान किया था। सिमरिया के साथ ही जगन्नाथपुरी, द्वारिकापुरी और रामेश्वरम में भी कुंभ पुनर्जागरण हो चुका है।