CBI अफसर के आरोपों को मोदी के मंत्री ने झुठलाया, कहा- सच हुआ तो छोड़ दूंगा राजनीति

देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई में चल रही कलह पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है. सुप्रीम कोर्ट आलोक वर्मा की याचिका पर सुनवाई कर रहा है, ये मामला तब और भी पेचिदा हो गया जब से इसमें NSA अजित डोभाल का नाम शामिल हुआ है.

सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा ने एनएसए व सीवीसी पर विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच में हस्तक्षेप का आरोप लगाया था. उनके इस आरोपों को केंद्रीय मंत्री हरिभाई चौधरी ने खारिज किया है.

केंद्र सरकार में कोयला राज्य मंत्री हरिभाई चौधरी ने कहा कि मनीष सिन्हा द्वारा जो भी आरोप लगाए गए हैं, वह सभी निराधार हैं. उन्होंने कहा कि अगर एक भी आरोप सच साबित होता है, तो वह राजनीति छोड़ देंगे.

गौरतलब है कि सिन्हा ने NSA, CVC के अलावा हरिभाई चौधरी के नाम का भी खुलासा किया था. सिन्हा ने आरोप लगाया था कि इन सभी ने राकेश अस्थाना मामले में हस्तक्षेप किया था.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में आज केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक आलोक वर्मा की उस अपील पर सुनवाई होनी है, जिसमें उन्होंने खुद को छुट्टी पर भेजे जाने का विरोध किया है. CBI के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना और आलोक वर्मा के बीच आरोप-प्रत्यारोप के बाद दोनों शीर्ष अधिकारियों को छुट्टी पर भेज दिया गया था. इस संबंध में सोमवार को वर्मा ने सीवीसी की रिपोर्ट पर जवाब दाखिल किया था.

आज SC में पेश होंगे मनीष सिन्हा

वहीं, दूसरी तरफ सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा को भी आज सुप्रीम कोर्ट ने पेश होने के लिए कहा है. मनीष कुमार सिन्हा ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था और एनएसए व सीवीसी पर विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ जांच में हस्तक्षेप का आरोप लगाया था.