DDLJ वो फिल्म जिसने , शाहरुख को बना दिया रोमांस बादशाह….

शाहरुख खान और काजोल स्टारर ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ एक रिकॉर्ड तोड़ और ब्लॉकबस्टर फिल्म है, जिसने कई कलाकारों को बड़ी पहचान दी. राज और सिमरन की लव स्टोरी ने यंगस्टर्स को प्यार के दूसरे मायने सिखाए. इस फिल्म की बंपर सफलता के बॉलीवुड में फिर से प्रेम कहानियों का बोलवाला बढ़ा और बहुत सी फिल्में प्रेम कहानियों को केंद्र में रखकर बनाई जाने लगी. राज का किरदार निभाने वाले शाहरुख खान सिनेमाई पर्दे पर रोमांस के नए ‘दूत’ बनकर उभरें.

सिमरन बनी काजोल के साथ शाहरुख की जोड़ी लोगों को भा गई. ये फिल्म कई साल बीतने के बावजूद चाव से देखी जाती है. आज ही के दिन 19 अक्टूबर 1995 को फिल्म रिलीज हुई थी. इस फिल्म को डायरेक्टर अदित्य चोपड़ा ने निर्देशित किया. काहनी, अभिनय के अलावा फिल्म के सभी गाने बेहद लोकप्रिय हुए थे. इन्हें आज भी खूब पसंद किया जाता है. ये फिल्म जब रिलीज हुई थी कई-कई महीनों तक सिनामों घरों में चलती रही.  हिंदी सिनेमा के लिए ये किसी जादू से कम नहीं था. इस फिल्म ने हिंदी सिनेमा की एक पूरी पीढ़ी पर गहरी असर डाला.

मूवी ने मुंबई के एक थिएटर मराठा मंदिर सिनेमा हॉल में 20 सालों तक दिखाया गया. टीवी पर अगर ये फिल्म आ रही हो तो सभी अपने काम छोड़ फिल्म में खो जाते हैं. इस फिल्म ने शाहरुख खान और काजोल के करियर को नई ऊंचाइयां दी. बाद में शाहरुख के नाम से फ़िल्में बिकने लगीं और वो बॉलीवुड में रोमांस के नए बादशाह बन गए.

बहुत कम लोगों को इस बात की जानकारी होगी कि जिस फिल्म ने शाहरुख को रोमांस का किंग बनाया उस फिल्म के लिए शाहरुख पहली पसंद थे ही नहीं.

दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे से पहले शाहरुख ने ‘बाजीगर’ में निगेटिव रोल किया था. उससे पहले ऋषि कपूर और दिव्या भारती की “दिवाना” में उनका एक छोटा लेकिन असरदार रोल था. शाहरुख पहचान बना चुके थे. लेकिन शाहरुख सुपरस्टार नहीं थे. शाहरुख की डीडीएलजे ने जैसी सक्सेस हासिल की पहले उसकी कल्पना नहीं की गई थी. इस फिल्म के बाद शाहरुख के करियर में जो कुछ हुआ वो अब इतिहास है.

क्या है फिल्म की कहानी?

दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे में शाहरुख खान राज के किरदार में हैं. तो वहीं काजोल सिमरन की भूमिका में हैं. ट्रेन में राज के साथ सिमरन की मुलाकात होती है. शुरुआती नोक-झोक के बाद दोनों में प्यार हो जाता है. सिमरन अपने घरवालों को प्यार बात नहीं बता पाती हैं.  बाद में सिमरन के पिता (अमरीश पुरी) पंजाब में बेटी की शादी के लिए वापस भारत लौट आते हैं.  वो अपने दोस्त के बेटे के साथ सिमरन की शादी तय कर देते हैं.  इस बीच सिमरन के पीछे-पीछे राज भी उसके गांव चला आता है.
सिमरन के घरवालों के दिल में भी जगह बना लेता है. बहुत सारे ट्विस्ट-टर्न्स के बाद कहानी के अंत में सिमरन राज की हो जाती हैं.  फिल्म में पंजाब के खेत की हरियाली देखने को मिलती है. फिल्म के गाने बहुत लोकप्रिय हुए थे. जिसे लता मंगेशकर, उदित नारायण, आशा भोसले, कुमार सानू ने गाया. स्टार कास्ट की बात करें तो फिल्म में अनुपम खेर, मंदिरा बेदी और करण जौहर भी अहम भूमिका में थे.