DNA बैंक से सुलझा 8 साल पुराना रेप-मर्डर केस

नवी मुंबई पुलिस ने एक आठ साल पुराने रेप और मर्डर केस को सॉल्व किया है. पुलिस की ओर से ये केस से देश के पहले क्रिमिनल DNA डेटाबैंक की मदद से सुलझाया गया है.

2010 में हुई इस घटना में पुलिस ने रेहान कुरैशी को कस्टडी में लिया है. इस पर दो नाबालिग लड़कियों का रेप और हत्या करने का आरोप है. दोनों नाबालिग लड़कियों की उम्र क्रमश: 5 और 7 साल थी. ये घटना मुंबई के नेहरू नगर इलाके में हुई थी.

मुंबई पुलिस के द्वारा बताया गया है कि इस मामले में पुलिस विभाग की ओर से मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की जाएगी और पूरी तफ्तीश की जानकारी दी जाएगी.

बताया जा रहा है कि इस केस के कारण ही मुंबई पुलिस को कई अपराधियों के डीएनए टेस्ट करने पड़े थे. जिसके कारण उनके पास करीब 3000 अपराधियों का डेटा इकट्ठा हुआ था, जिससे DNA बैंक बनने में आसानी हुई.

इस लिस्ट में चैन खींचने वाले, चोरी करने वाले और छोटे-मोटे अपराधियों का डेटा जमा है. ये प्रक्रिया 2010 से ही लगातार जारी थी. जैसे ही रेहान कुरैशी को कस्टडी में लिया गया, तो उसने अपना जुर्म कुबूल कर लिया. उसके डीएनए दोनों बच्चियों के डीएनए से मैच कर गया था.

बच्चियों का शव नेहरु नगर में पुलिस हेडक्वार्टर के पास मिला था, जिसके कारण कुछ पुलिसवालों का भी DNA टेस्ट भी लिया गया था.