ट्रंप समर्थकों के फसाद पर जो बाइडन का फूटा ग़ुस्सा, एक महिला की मौत

यूएस कैपिटल में ट्रंप समर्थकों के ‘फसाद’ पर अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन जमकर बरसे हैं.

यूएस कैपिटल वॉशिंगटन डीसी में है. यहाँ अमेरिकी कांग्रेस के लोग बैठते हैं. अमेरिकी कांग्रेस अमेरिका की फेडरल सरकार का द्विसदन है. इसमें हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स और सीनेट निहित हैं. अमेरिका के हिसाब से छह जनवरी को अमेरिकी कांग्रेस में जो बाइडन को पिछले साल तीन नवंबर को हुए चुनाव में मिली जीत की पुष्टि के लिए सत्र चल रहा था.

यह महज़ औपचारिकता होती है लेकिन रिपब्लिकन सांसदों ने कुछ चुनावी नतीजों पर सवाल उठाए थे. अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप उपराष्ट्रपति माइक पेंस पर दबाव डाल रहे हैं कि वो बाइडन को जीत का सर्टिफिकेट ना दें. ऐसे में यह औपचारिकता भी अहम हो गई थी.


जब अमेरिकी कांग्रेस का सत्र चल रहा था तभी ट्रंप समर्थकों की हिंसक भीड़ बैरिकेड तोड़कर घुस गई. पुलिस बलों से झड़प हुई. कई ट्रंप समर्थक हथियारों से लैस थे. ट्रंप समर्थकों ने खिड़कियां तोड़ दीं और पुलिस वालों से भिड़ गए. इसी दौरान एक महिला को गोली लगी और बाद में मौत हो गई. बाद में ट्रंप ने अपने समर्थकों को घर जाने के लिए कहा लेकिन ये दावा भी दोहराया कि चुनाव में उन्हें जीत मिली है.

पूरे मामले पर जो बाइडन का ग़ुस्सा फूट पड़ा. विलमिन्गटन से बोलते हुए बाइडन ने कहा, ”लोकतंत्र अप्रत्याशित रूप से ख़तरे में है. मैं राष्ट्रपति ट्रंप से अपील कर रहा हूं कि वो नेशनल टीवी पर जाएं और अपनी शपथ का पालन करते हुए संविधान की रक्षा करें और कैपिटल को कब्जे से मुक्त कराएं. कैपिटल में घुसकर खिड़कियाँ तोड़ना, फ्लोर पर कब्जा कर लेना और उथल-पुथल मचाना विरोध नहीं फसाद है.”