शनिवार को मेदिनीनगर आएंगे। इस दौरान वे राज्य को 3500 करोड़ की योजनाओं की सौगात देंगे…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

शनिवार को मेदिनीनगर आएंगे। इस दौरान वे राज्य को 3500 करोड़ की योजनाओं की सौगात देंगे। इनमें सिंचाई की छह बड़ी परियोजनाएं शामिल हैं। पीएम इन योजनाओं का शिलान्यास करेंगे। इसके अलावा सोन नदी से पाइपलाइन के जरिए जलापूर्ति परियोजना की भी नींव रखेंगे। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने 25 हजार ग्रामीण घरों के लाभार्थियों का गृह प्रवेश भी कराया जाएगा। प्रधानमंत्री नॉर्थ कोयल प्रोजेक्ट के बचे काम को पूरा करने की परियोजना का भी शिलान्यास करेंगे। इससे राज्य की 39801 हेक्टेयर जमीन सिंचित होगी। बतरे, बीयर व बाइबांकी जलाशय के जीर्णोद्धार से भी 2200 हेक्टेयर जमीन की सिंचाई होगी।

जनसभा को भी करेंगे संबोधित

प्रधानमंत्री चियांकी हवाई अड्डे पर जनसभा को संबोधित करेंगे। मुख्यमंत्री रघुवर दास और केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी सभा को संबोधित करेंगे। सभा में 70 हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था प्रशासन ने की है। इसके लिए पलामू, गढ़वा और लातेहार से विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को जुटाने के लिए एक-एक बस भेजी गई है।

सीएम ने लिया तैयारियों का जायजा
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने शुक्रवार को मेदिनीनगर में पीएम के कार्यक्रम को लेकर की गई तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने कार्यक्रम स्थल, मुख्य मंच और लोगों के बैठने की व्यवस्था जायजा लिया। बाद में उन्होंने बातचीत में कहा कि पलामू-गढ़वा के लोग सिंचाई की व्यवस्था नहीं होने से पलायन को मजबूर होते है। कांग्रेस और यूपीए ने कभी इस पर नहीं सोचा।

सभास्थल पर सुरक्षा में चूक

चियांकी हवाई अड्डे पर शुक्रवार की शाम कृषि सचिव पूजा सिंघल को लेकर पहुंचे हेलीकॉप्टर को पीएम के लिए निर्धारित हेलीपैड पर लैंड कराया गया। एसपीजी इसे सुरक्षा व्यवस्था में चूक मान रही है। उसका कहना है कि यह प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर बने स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसेज्योर (एसओपी) के खिलाफ है।

नक्सली दस्ते की सूचना पर बूढ़ा पहाड़ में कांबिंग तेज

प्रधानमंत्री के दौरे के पहले बूढ़ा पहाड़ पर नक्सलियों के जुटने की सूचना पर पुलिस ने कांबिंग तेज कर दी। सुरक्षा एजेंसियों को सूचना मिली कि दो नक्सली कमांडरों के नेतृत्व में 100 से अधिक नक्सली छत्तीसगढ़ से बूढ़ा पहाड़ पहुंचे हैं। इसके बाद सुरक्षा एजेंसियां चौकस हो गईं। सुरक्षा एजेंसियों की मानें तो नक्सली अपनी उपस्थिति दिखाने के लिए किसी घटना को अंजाम दे सकते हैं। पीएम की सभा में शामिल होकर मंडल डैम का विरोध भी कर सकते हैं। काला झंडा भी दिखा सकते हैं। इसे लेकर कार्यक्रम स्थल पर भी चौकसी बढ़ा दी गई है। बूढ़ा पहाड़ मंडल डैम के पास स्थित है।