नकली शराब बनाने वाले गिरोह का खुलासा, पूर्व मंत्री के ठेके पर चल रहा था गोरखधंधा…

गोरखपुर. पुलिस ने नकली शराब बनाने वाले गिरोह का खुलासा किया है। इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में आरोपियों ने सपा सरकार में मंत्री रहे एक नेता का नाम कबूला है। आरोपियों का कहना है कि पूर्व मंत्री के कहने पर वह सभी स्प्रिट से देशी शराब बनाते थे। जिसे वह अंग्रेजी शराब में भी मिलाते थे। पुलिस ने छापेमारी कर पूर्व मंत्री के ठेके से स्प्रिट, रैपर, होलोग्राम, शीशी और ढक्‍कन बरामद किया है।

पूर्व मंत्री पर शिकंजा कसने की तैयारी में गोरखपुर पुलिस
पुलिस अधीक्षक दक्षिणी विपुल कुमार श्रीवास्‍तव ने बताया कि बेलीपार इलाके में रविवार की देर रात एसओ बेलीपार अनिल सिंह अपनी टीम के साथ सेंवई बाजार में चेकिंग कर रहे थे। तभी बाइक पर 80 लीटर स्प्रिट ले जा रहे युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। युवक की पहचान गगहा इलाके के जगदीशपुर भलुआन निवासी दिलीप सिंह के रुप में हुई। उसने बताया कि, वह पूर्व खेल राज्‍यमंत्री रहे जितेन्‍द्र जायसवाल उर्फ पप्‍पू भइया की सरकारी शराब की दुकान पर मुनीम है।

एसपी ने बताया कि दिलीप, डंवरपार निवासी अर्जुन जायसवाल और उसके भतीजा विशाल स्प्रिट का करोबार करते हैं। उन्हीं से स्प्रिट खरीद कर ले जा रहा था। नकली शराब बनाने के बाद उसकी खेप को बद्री जायसवाल के बेटे और पूर्व मंत्री पप्‍पू जायसवाल की शराब की दुकानों पर खपाया जाता है। पुलिस ने दिलीप सिंह के अलावा तिवारीपुर के घुनघुन कोठा निवासी रामवकील यादव, महराजगंज जिले के बृजमनगंज आमाकोठ का सुनील कुमार, पनियरा के बदगदवा का धुलेन्‍द्र राय और कुशीनगर जिले के कप्‍तानगंज बट्टागोडरवार निवासी लक्ष्‍मण गुप्‍ता को पकड़ा है।

पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि, पप्‍पू जायसवाल और देवन्‍द्र सिंह के कहने पर अवैध तरीके से शराब बनाई जाती है। पुलिस ने 80 लीटर स्प्रिट, 12 बोर का तमंचा, कारतूस, 1050 ढक्‍कन, दो सौ मिली की 31 शीशी देशी शराब, चार पेचकस, सौ अदद प्‍लास्टिक की खाली शीशी बरामद की है। एसपी ने बताया कि अर्जुन जायसवाल और उसका भतीजा विशाल जायसवाल शराब के अवैध कारोबारी हैं। अर्जुन पर बेलीपार, बांसगांव, खोराबार और सहजनवां थाने में एक दर्जन से अधिक मुकदमें दर्ज हैं।