मध्यप्रदेश : 15 साल बाद सत्ता में लौटी कांग्रेस ने शहर में लगाए 50 हजार से ज्यादा पोस्टर व होर्डिंग …

भोपाल . वीआईपी रोड, कमला पार्क, लिंक रोड नंबर – 1 , एमपी नगर, बोर्ड ऑफिस चौराहा, व्यापमं चौराहा, भेल दशहरा मैदान रोड, जंबूरी मैदान। इन सभी स्थानों को कटआउट, होर्डिंग, बैनर, पोस्टर से पाट दिया गया है। इन होर्डिंग्स में  विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाए जाने के बधाई संदेश दिए गए हैं।

इनकी संख्या 100, 500 अथवा 1000 नहीं है, बल्कि 50 हजार से ज्यादा है। यह दृश्य रविवार को अधिकांश सड़कों पर देखने को मिला। इसकी वजह सोमवार को कमलनाथ के मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह के ठीक पहले कांग्रेस नेताओं का शक्ति प्रदर्शन है। लेकिन, कांग्रेस नेताओं के ये होर्डिंग, बैनर, पोस्टर, झंडे शहर की खूबसूरती को खराब कर रहे हैं। ये सभी होर्डिंग नगर निगम की बिना अनुमति के लगाए गए हैं।
15 साल बाद सत्ता में वापसी के जश्न में खोए कांग्रेस नेताओं ने भेल स्थित स्मार्ट सिटी कंपनी दफ्तर से लेकर जंबूरी मैदान तक करीब 10 स्थानों पर होर्डिंग वॉल बनाई हैं। ऐसी ही स्थिति वीआईपी रोड से रोशनपुरा चौराहा रोड की है। यहां भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सड़क के दोनों ओर बेतरतीब होर्डिंग, बैनर, पोस्टर लगाए हैं। वहीं पॉलीटेक्निक चौराहा, रोशनपुरा चौराहा, शिवाजी नगर चौराहा, चेतक ब्रिज चौराहा, कैरियर कॉलेज तिराहा सहित अन्य चौराहों और तिराहों को कांग्रेस के झंडों और बैनर से ढंक दिया गया है।

लिंक रोड पर संदेशों की भरमार  : प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय लिंक रोड नंबर एक पर चिनार पार्क के सामने मौजूद है।  पार्टी नेताओं को आना-जाना यहां बढ़ गया है। बधाई संदेश वाले बैनर-पोस्टर लिंक रोड नंबर एक से लेकर एयरपोर्ट तक लगाए गए हैं।

होर्डिंग, पोस्टर में दशकों बाद दिखे संजय गांधी के फोटो : शहर में लगाए कांग्रेस के होर्डिंग में इंदिरा गांधी, राजीव गांधी , सोनिया गांधी, राहुल गांधी, कमलनाथ के साथ संजय गांधी के फोटो को भी प्रमुखता से स्थान दिया गया है। इसके अलावा होर्डिंग्स में कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव, अजय सिंह राहुल भैय्या के होर्डिंग भी लगाए गए हैं।

अनुमति से लगे हैं होर्डिंग्स 

निगम के ठेकेदारों की अनुमति और सहमति से ही होर्डिंग लगाए हैं। खंभे और पेड़ों पर होर्डिंग लगाने की परंपरा तो करीब 15 साल पुरानी है। फिर भी हम इस पर सख्ती करेंगे। कैलाश मिश्रा, जिलाध्यक्ष, कांग्रेस

बिना अनुमति बधाई संदेश लगाना गलत है। इस मामले में हमारा अमला कार्रवाई करता है। शहर में लगे अवैध होर्डिंग, बैनर और पोस्टर पर कार्रवाई की जाएगी। मिलिंद ढोके, उपायुक्त, नगर निगम