गहलोत, कमलनाथ और बघेल का शपथ ग्रहण समारोह आज, 2 दिन में दूसरी बार विपक्ष…

राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के नये मुख्यमंत्रियों के आज (सोमवार) होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में कई विपक्षी नेताओं के शिरकत करने की उम्मीद है। हाल में हुए विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस तीन राज्यों में सरकार बना रही है। अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) राजस्थान के मुख्यमंत्री होंगे जबकि कमलनाथ (Kamal Nath) मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री पद का जिम्मा संभालेंगे तो भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री पद पर आसीन होंगे। आपको बता दें कि दो दिन में यह दूसरा मौका होगा जब विपक्ष अपनी ताकत दिखाएगा। इससे पहले रविवार को तमिलनाडु में दिवंगत द्रमुक अध्यक्ष एम. करुणानिधि की कांस्य की प्रतिमा का अनावरण किया और इस मौके पर विपक्ष के कई नेताओं ने शामिल होकर विपक्ष की एकता दिखाई।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तीनों शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेंगे। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौडा, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला समेत विपक्ष के कई अहम नेता समारोहों में शिरकत कर सकते हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, राजद नेता तेजस्वी यादव समारोहों में शिरकत करेंगे। वहीं एआईयूडीएफ नेता बदरुद्दीन अजमल, टीएमसी नेता दिनेश त्रिवेदी और एलजेडी नेता शरद यादव समेत अन्य को समारोह के लिए आमंत्रित किया गया है।

मायावती-अखिलेश, ममता शपथ ग्रहण में नहीं जाएंगे
बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा मुखिया अखिलेश यादव और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भोपाल में कमलनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं जाएंगे। बसपा और सपा ने मध्य प्रदेश में कांग्रेस को बिना शर्त कांग्रेस को समर्थन देने की बात कही है। अखिलेश यादव ने ट्वीट कर इस पर स्थिति साफ कर दी है। अखिलेश ने ट्वीट करते हुए कहा है कि कमलनाथ को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में हार्दिक बधाई। मध्य प्रदेश के बिजावर से निर्वाचित सपा विधायक राजेश कुमार हमारा प्रतिनिधित्व करेंगे। वहीं सांसद दिनेश त्रिवेदी समारोह में तृणमूल कांग्रेस का प्रतिनिधित्व करेंगे। पार्टी सूत्रों की माने तो बसपा सुप्रीमो मायावती के भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने की संभावना नहीं है।

केजरीवाल भी नहीं होंगे शामिल
सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी को भी आमंत्रित किया है। अरविंद केजरीवाल समारोह में शामिल नहीं हो सकेंगे लेकिन आप के सांसद संजय सिंह राजस्थान में शपथ ग्रहण कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। इसके अलावा, जेएमएम नेता हेमंत सोरेन, झारखंड विकास मंच नेता बाबूलाल मरांडी, स्वाभिमानी पक्ष नेता राजू शेट्टी और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को भी आमंत्रित किया गया है और इन नेताओं के समारोहों में आने की संभावना है।

अशोक गहलोत जयपुर में सुबह 10 बजे शपथ लेंगे जबकि कमलनाथ दोपहर एक बजे भोपाल में शपथ में लेंगे। वहीं भूपेश बघेल शाम चार बजे रायपुर में शपथ लेंगे। राजस्थान की राजधानी जयपुर एवं मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे आदि शामिल होंगे। रायपुर कौन-कौन पहुंचेगा, यह अभी स्पष्ट नहीं है। भोपाल में कई उद्योगपति व साधु-संतों के भी शामिल होने की संभावनाएं हैं।

विपक्षी एजजुटता का प्रदर्शन
कांग्रेस की कोशिश शपथ ग्रहण समारोह में विपक्षी एकजुटता दिखाने की है इसलिए उसने भोपाल में भव्य आयोजन की तैयारियां की हैं। यह एक तरह का ‘मेगा शो’ होगा। जंबूरी मैदान में 1 लाख लोगों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है साथ ही अनुमान है कि वहां 2 लाख से अधिक लोग पहुंचेंगे। वहां पहले से बने पांच हेलिपेड का उपयोग भी किया जाएगा।

तीनों राज्यों का शपथ ग्रहण कार्यक्रम
अशोक गहलोत
अल्बर्ट हॉल, जयपुर
सुबह 10:30 बजे

कमलनाथ
जंबूरी मैदान, भोपाल
दोपहर 1:30 बजे

भूपेश बघेल
साइंस कॉलेज मैदान, रायपुर
शाम 4:30 बजे

भोपाल का जंबूरी मैदान क्यों है खास
भोपाल के जंबूरी मैदान को भाजपा भाग्यशाली मानती रही है। शिवराज सिंह चौहान ने इसी मैदान पर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और अब उसी जगह से कांग्रेस के मनोनीत मुख्यमंत्री कमलनाथ सोमवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। यह मैदान इतना बड़ा है कि 5 लाख से अधिक लोग यहां उपस्थित हो सकते हैं।

शिवराज सिंह होंगे शामिल!
कमलनाथ अन्य दलों के वरिष्ठ नेताओं के साथ-साथ उद्योग जगत की बड़ी हस्तियों को स्वयं आमंत्रित कर रहे हैं। वे कार्यवाहक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को समारोह में आने का आमंत्रण स्वयं देने की बात कह चुके हैं। वहीं, चौहान ने भी कहा कि लोकतंत्र की मर्यादा है, अगर वे सम्मानपूर्वक आमंत्रित करते हैं तो मैं जरूर जाऊंगा।