EVM में गड़बड़ी की आशंका, सतर्क कांग्रेस-AAP कार्यकर्ता दे रहे पहरा

ईवीएम में गड़बड़ी की आशंका के चलते भोपाल की पुरानी जेल में बने स्ट्रांग रूम के बाहर कांग्रेस के कार्यकर्ता दिन रात पहरेदारी कर रहे हैं. कांग्रेसियों को आशंका है कि ईवीएम मशीनों से छेड़छाड़ हो सकती है. इसलिए शिफ्ट लगाकर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता पहरेदारी करते नजर आ रहे हैं.

स्ट्रांग रूम में रखे ईवीएम में कैद उम्मीदवारों की सियासी किस्मत की सुरक्षा के लिए पुलिस के साथ साथ अब कांग्रेस और आम आदमी पार्टी भी पहरेदारी के लिए तैनात हो चुकी है. दरअसल कांग्रेस और AAP को आशंका है कि कही बीजेपी जीत के लिए हथकंडे अपना सकती है. यही वजह है कि शुक्रवार सुबह से रात तक कांग्रेसी और AAP कार्यकर्ता पुरानी भोपाल जेल के बाहर डटे हुए हैं. सुबह कांग्रेसियों ने पुरानी जेल के बाहर लगी सीसीटीवी की एलईडी डिस्प्ले के बंद होने के चलते हंगामा किया. वहीं आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी और कार्यकर्ता भी रात को पुरानी जेल के बाहर कुर्सी लगाकर बैठ गए. रात को एलईडी पर सुबह की रिकार्डिंग चलने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस ने जमकर नारेबाजी की.

कमलनाथ बोले- ईवीएम पर निगरानी रखें

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ और अरुण यादव ने ट्वीट कर कार्यकर्ताओं से 11 दिसंबर यानी मतगणना पूरी होने तक स्ट्रांग रूम पर कड़ी नजर रखने को कहा है. कमलनाथ ने शुक्रवार शाम को ट्वीट कर कहा ‘सभी कांग्रेसजन, कांग्रेस प्रत्याशियों से अपील 11 दिसंबर मतगणना तक स्ट्रॉंग रूम व ईवीएम पर निगरानी रखें, विशेष सावधानी रखें. कांग्रेस की सरकार बननी तय है.’

वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री और बुधनी से कांग्रेस प्रत्याशी अरुण यादव ने भी ट्वीट किया और लिखा, ‘भोपाल में स्ट्रांग रूम के बाहर लगी एलईएड बंद होना और सागर में गृह मंत्री की विधानसभा सीट की रिज़र्व ईवीएम मशीनों का 48 घंटे  बाद पहुंचना चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल खड़े कर रहा है. मैं कार्यकर्ताओं से कहना चाहता हूं स्ट्रांग रूम के बाहर तैनात रहें जिससे कोई साज़िश कामयाब न हो.’

पुलिस ने सुरक्षा का दिया भरोसा                       

वहीं ईवीएम की सुरक्षा को लेकर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं को भोपाल डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी ने भरोसा दिलाया कि स्ट्रांग रूम पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है. डीआईजी चौधरी ने बताया कि ईवीएम को थ्री-लेयर सुरक्षा कवच दिया गया है, जहां परिंदा भी पर नही मार सकता और गेट पर बिना दस्तखत किए कोई अंदर नहीं जा सकता.