TOXIC बना ऑक्सफॉर्ड का वर्ल्ड ऑफ द ईयर, ये रही वजह

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ने ‘TOXIC (टॉक्सिक)’ शब्द को वर्ल्ड ऑफ द ईयर घोषित किया है. टॉक्सिक का मतलब ‘जहरीला’ होता है. डिक्शनरी के अनुसार, यह शब्द 2018 में उपजे हालात, मिजाज और भावना आदि को प्रदर्शित करता है. बता दें कि पिछले एक साल में पर्यावरण और राजनीतिक माहौल को देखते हुए ये शब्द चुना गया है.

ऑक्सफोर्ड अंग्रेजी डिक्शनरी ने एक बयान में कहा कि ‘ऑक्सफोर्ड ईयर ऑफ द वर्ल्ड’ ऐसा शब्द या अभिव्यक्ति है, जो सांस्कृतिक महत्व की दृष्टि से अहमियत रखता हो. साल के शब्द के लिए जिन शब्दों की सूची तैयार की गई थी, उनमें ‘टॉक्सिक’ के अलावा ‘गैसलाइटिंग’, ‘इनसेल’ और ‘टेकलैश’ शब्द शामिल थे.

इन शब्दों में से ‘टॉक्सिक’ का चयन किया गया है. आंकड़े बताते हैं कि इस साल ‘टॉक्सिक’ के साथ ‘केमिकल’ और ‘मैस्कुलिनिटी’ शब्द का भी खूब इस्तेमाल हुआ. ऑक्सफोर्ड की ओर से जारी की गई जानकारी के अनुसार, मी टू अभियान में ‘टॉक्सिक मैस्कुलिनिटी’ का इस्तेमाल हुआ.

अंतरराष्ट्रीय सुर्खियां बटोरने वाली ब्रेट कावानाह सीनेट न्यायिक समिति की सुनवाई जैसी साल की कुछ सबसे चर्चित घटनाओं में भी ‘टॉक्सिक मैस्कुलिनिटी’ का प्रयोग हुआ. इस शब्द ने जनमानस में गहरे तक असर डाला और 2018 में लोगों ने इस पर खूब चर्चा की.

‘टॉक्सिक’ के विशेषण होता है, जिसका इस्तेमाल ‘जहरीला’ के संदर्भ में किया जाता है और अंग्रेजी में पहली बार इस शब्द का प्रयोग 17वीं सदी के मध्य में हुआ था, जो मध्ययुगीन लातिन शब्द ‘टॉक्सिकस’ से आया था. इसका अर्थ ‘जहर’ या ‘जहर से भरा’ होता है.