आज BCCI ताकतवर, पहले ICC मीटिंग में भिखारी की तरह जाता था बोर्ड

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी ने मौजूदा समय में बीसीसीआई के वर्ल्ड क्रिकेट में बड़े रुतबे पर बात करते हुए कहा, आज समय बदल गया है और BCCI का रुतबा अलग है. आज भारतीय बोर्ड को किसी के आगे झुकना नहीं पड़ता.

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी और 1983 वर्ल्ड कप विजेता भारतीय टीम के सदस्य मदन लाल ने शिरकत की.

बिशन सिंह बेदी ने कहा, ‘जो आज इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) है, वो पहले इंपीरियल क्रिकेट कांफ्रेंस (ICC) हुआ करती थी और इसमें ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के पास ज्यादा अधिकार होते थे.’

बेदी ने कहा, ‘उन दिनों भारतीय बोर्ड के प्रतिनिधि ICC मीटिंग में भिखारी की तरह जाते थे. आज जो ICC है, उसमें सभी देश के क्रिकेट बोर्ड के पास सामान अधिकार है. उन दिनों में जो गारंटी मनी भी होती थी वो ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और वेस्टइंडीज को ज्यादा मिलती थी.’

उन्होंने कहा, ‘आज चाहे वो बांग्लादेश है या जिम्बाब्वे सभी को समान गारंटी मनी मिलती है.’ बेदी ने कहा, ‘आज जो क्रिकेट में तहजीब है वो काफी बदल गई है. आज भारतीय बोर्ड को किसी के आगे झुकना नहीं पड़ता.’

बिशन सिंह बेदी ने कहा, ‘नवाब पटौदी जैसा कप्तान मैंने नहीं देखा जब वह कप्तानी थे तो टीम मीटिंग ने खिलाड़ियों को बताते थे कि हम पंजाब, दिल्ली, महाराष्ट्र और बंगाल के लिए नहीं भारत के लिए खेल रहे हैं.’

आपको बता दें कि बिशन सिंह बेदी लेफ्ट आर्म स्पिनर थे. बेदी ने 1966 से 1979 तक टेस्ट क्रिकेट खेला. उन्होंने कुल 67 टेस्ट मैचों में 266 विकेट लिए. वह 22 टेस्ट मैचों में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान भी रहे. घरेलू क्रिकेट में बेदी 15 साल की उम्र से उत्तर पंजाब के लिए खेलते थे.

वह 1968-69 और 1974-75 के रणजी ट्रॉफी सीजन के लिए दिल्ली चले गए, जहां उन्होंने रिकॉर्ड 64 विकेट झटके. बेदी बहुत समय तक इंग्लिश काउंटी क्रिकेट की नॉर्थम्प्टनशायर के लिए भी खेले. बेदी को 1976 में भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान बनाया गया. वह मंसूर अली खान पटौदी के बाद कप्तान बने थे.

बेदी की कप्तानी में पहली बार टेस्ट मैच वेस्टइंडीज के विरूद्ध 1976 में पोर्ट-ऑफ-स्पेन में जीता गया था. इसके बाद, भारत ने न्यूजीलैंड के खिलाफ भी टेस्ट सीरीज 2-0 से जीती.  भारत न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत में ही, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ और पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज हार गया. इन हार के बाद, कप्तानी बिशन सिंह बेदी से छीनकर, सुनील गावस्कर को दे दी गई.