15 साल पहले किया था पत्नी का कत्ल, अब बेंगलुरु से गिरफ्तार

गुजरात पुलिस ने 15 साल बाद अहमदाबाद के चर्चित सजनी हत्याकांड का खुलासा कर दिया है. इस मामले में आरोपी कोई और नहीं बल्कि सजनी का पति निकला. जिसने वर्ष 2003 में वेलेंटाइन डे के दिन अपनी पत्नी सजनी को मौत की नींद सुला दिया था क्योंकि उसकी जिंदगी में एक दूसरी लड़की आ गई थी.

गुजरात क्राइम ब्रांच ने जब 15 साल पुराने सजनी मर्डर केस से पर्दा उठाया तो कातिल सजनी का पति तरुण धीन्नराज निकला. पुलिस ने उसे बेंगलुरु से गिरफ्तार किया है.

ये था पूरा मामला

तारीख 14 फरवरी 2003. पूरी दुनिया मोहब्बत का त्यौहार यानी वेलेंटाइन डे मना रही थी. इसी दिन अहमदाबाद के बोपल इलाके के एक मकान में खून की होली खेली गई. वहां एक कत्ल हुआ था. फ्लैट की तीसरी मंजिल पर एक महिला की लाश पड़ी थी. उसके पास ही उसका पति बैठा रो रहा था. पुलिस मौके पर पहुंची. लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा. पति से पुलिस ने पूछताछ की. वो बार-बार बयान बदलता रहा.

कभी उसने कहा कि किसी ने उसकी पत्नी को मार डाला. तो कभी कहा कि उसकी मौत कुदरती थी. पुलिस उससे पूछताछ तो करती रही लेकिन उसे गिरफ्तार नहीं कर सकी. क्योंकि पुलिस के पास उसके खिलाफ कोई सबूत नहीं था. वारदात के बाद पूछताछ और फिर बीमारी की ड्रामा कर पति अस्पताल में भर्ती हो गया. पुलिस को कातिल का कोई सुराग नहीं मिला. इसी दौरान मृतका का पति अस्पताल से अचानक गायब हो गया.

पुलिस उसकी तलाश करती रही. उसके रिश्तेदारों और दोस्तों से पूछताछ की गई लेकिन वो शख्स पुलिस के हाथ नहीं लगा. पुलिस ने उसे गुजरात ही नहीं बल्कि आस-पास के राज्यों में भी तलाश किया. मगर उसका कोई अता-पता नहीं चला. पुलिस ने मृतका के पति की तलाश बंद कर दी. लेकिन केस बंद नहीं किया.

इसी दौरान 15 साल बाद अचानक गुजरात पुलिस को सूचना मिली कि मृतका सजनी का पति तरुण: पुलिस ने तरुण को अरेस्ट करने के लिए अनेक राज्यों में उसकी तलाश की, पर उसका कोई अता-पता नहीं मिल पाया। हाल में पुलिस को जानकारी मिली कि तरुण अपना नाम बदलकर बेंगलुरु में रह रहा है.

क्राइम ब्रांच को पता चला कि तरुण ने दूसरी शादी भी कर ली है. उसके दो बच्चे भी हैं. टीम ने पहले तरुण के एक रिश्तेदार को फोन पर ट्रेस किया. फिर उसके नंबर से तरुण का नंबर मिला. उस नंबर के जरिए ही क्राइम ब्रांच की टीम बेंगलुरु में उसके ठिकाने तक जा पहुंची और तरुण को गिरफ्तार कर लिया. गुजरात पुलिस ने तरुण के अस्पताल से गायब हो जाने के बाद उस पर एक लाख रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा था.